मात पिता गौधाम

अपने माता-गिता के प्रति अत्याधिक आदरभाव त था गौभाता के प्रति अटूट प्रेम के कारण श्री ज्ञान चन्द वालिया जी के दिमाग में बार-बार विचार आता कि जब परमात्मा को इतनी सुन्दर परिकल्पना का परिणाम है माँ-बाप और गौमाता, तब ये असहाय और बेबस क्यों? इनकी बेबसी के चलते मानव-जीवन सुखी कैसे हो सकता है?

Comments (1)

  1. Hi, this is a comment.
    To delete a comment, just log in and view the post's comments. There you will have the option to edit or delete them.

Leave a comment